Advertisment
CANADA

कनाडा बुला रहा है, सीटी बजा रहा है

Advertisment


कनाडा में पढ़ने वाले तकरीबन 80 फीसदी भारतीय वहां की नागरिकता हासिल करने की कोशिश करते हैं और इनमें से 99 फीसदी लोग सफल भी रहते हैं। ये आंकड़े भारतीयों के बीच कनाडा की बढ़ती लोकप्रियता का इशारा करते हैं। कनाडियन यूनिवर्सिटी ऐप्लिकेशन सेंटर के एमडी ने यह तस्वीर पेश की है। उनके मुताबिक, पढ़ाई खत्म करने के बाद 80 फीसदी भारतीय कनाडा में ही बसना चाहते हैं। गौर करने की बात यह है कि कनाडा की पॉपुलेशन ग्रोथ को एक तय दर पर बनाए रखने के लिए उसे हर साल 3 लाख विदेशियों की जरूरत है। यही वजह है कि इस देश में टैलेंटेड भारतीयों की बड़ी डिमांड है। आपको बता दें कि कनाडा की जनसंख्या 3 करोड़ 45 लाख के आसपास है और यह देश जनसंख्या की ग्रोथ रेट बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रहा है। लेकिन यहां की जनसंख्या दर को बनाए रखने में भारतीयों ने काफी योगदान दिया है। इन भारतीयों में अपने पंजाब का जवाब नहीं है। कनाडियन यूनिवर्सिटी ऐप्लिकेशन सेंटर के एमडी की मानें तो कनाडा में पढ़ने वाले भारतीयों में 40 फीसदी से ज्यादा पंजाब से हैं। नब्बे के दशक में जहां डेढ़ हजार स्टूडेंट्स हर साल कनाडा जाते थे, वहीं यह तादाद बढ़कर 13,000 से ज्यादा हो गई है। दूसरे देशों के मुकाबले कम खर्चीली पढ़ाई और हाई लिविंग स्टैंडर्ड ऐसी चीजें हैं, जो भारतीयों को कनाडा की ओर खींचती हैं। इतना ही नहीं, जैसे ही कोई इंडियन कनाडा की यूनिवर्सिटी से ग्रैजुएट की डिग्री हासिल करता है, उसे अपने आप वर्क परमिट भी मिल जाता है। अगर स्टडी पूरी होते ही जॉब का जुगाड़ हो जाए, तो फिर परमानेंट सिटिजनशिप हासिल करने का मन तो होता ही है।

Advertisment
Show More
Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment
Back to top button
%d bloggers like this: