Advertisment
CANADA

कनाडा में बसता है मिनी इंडिया

Advertisment


कुछ साल पहले की बात थी, जब किसी इंडियन से पूछा जाता था कि वह हायर स्टडीज के लिए कहां जाना चाहता है, तो ज्यादातर लोग अमेरिका, ब्रिटेन या फिर ऑस्ट्रेलिया का नाम लेते थे, लेकिन हालात अब बदले हैं। स्टडी के फॉरेन डेस्टिनेशंस में कनाडा तेजी से उभरा है। अगर आंकड़ों पर नजर डालें तो पाएंगे कि 2008 में जहां 3 हजार लोग कनाडा पढ़ने जाते थे, वहीं 2010 में यह आंकड़ा बढ़कर 12,500 था वहीं 2012 में यह 13 हजार को पार कर गया। कनाडा के फेवरिट डेस्टिनेशन के तौर पर उभरने की कई वजहें हैं। ग्लोबल स्लोडाउन के बाद अमेरिका ने विदेशी स्टूडेंट्स को फंडिंग काफी घटा दी है, वहीं ब्रिटेन ने भी अप्रैल 2012 में स्टडी के बाद जॉब की सहूलियतों को काफी कम किया है। ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर एक के बाद एक हुए नस्ली हमलों ने भी कंगारुओं के इस देश में सुरक्षा के प्रति भारतीयों में चिंता पैदा की है। वजहें और भी हैं। ब्रिटेन में पढ़ाई अन्य देशों की तुलना में थोड़ा महंगी है, वहीं रेसेशन ने अमेरिका में जॉब मिलने की संभावनाओं पर भी तुषारापात किया है। यही वजह है कि ज्यादातर भारतीयों ने कनाडा को सेफ और बेस्ट डेस्टिनेशन के रूप में देखना शुरू किया है। दूसरा, कनाडा की यूनिवर्सिटियों को मिलने वाले सरकारी फंड से वहां पढ़ना भी सस्ता हुआ है। डिग्री के साथ वर्क परमिट मिलने की सहूलियत ने भी इंडियंस का कॉन्फिडेंस बढ़ाया है। गुड सैलरी और वर्क एनवायरनमेंट का लालच तो है ही। फिर वैंकुवर जैसी जगहों पर भारतीयों की तादाद इतनी ज्यादा है कि इंडियन स्टूडेंट को यहां विदेश में होने या एकाकीपन का आभास ही नहीं होता।

Advertisment
Show More
Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment
Back to top button
%d bloggers like this: