Advertisment
DELHI

दिल्ली में दिखेगा 101 साल की रनर का दम – the 101-year-old runner will look in delhi

Advertisment

93 साल की उम्र में दौड़ना शुरू करने की शुरुआत करने वाली 101 साल की मान कौर ने रनिंग के तमाम रिकॉर्ड बनाकर सबको हैरान कर दिया है। हमसे खास बातचीत में मान ने बताया कि अगले महीने वह दिल्ली की सड़कों पर भी दौड़ती नजर आएंगी :

[email protected]

आज की यंग जेनरेशन जहां तनाव भरी वर्किंग लाइफ से उकताकर 40-50 की उम्र में ही रिटायरमेंट प्लान करने लगी है। ऐसे में, 101 साल की उम्र में रनिंग में तमाम मेडल जीतकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकीं मान कौर का जज्बा वाकई काबिलेतारीफ है। आजकल के यंगस्टर्स को सही सलामत अपनी उम्र के 70 साल पार करने का भरोसा नहीं होता। वहीं मान कौर ने तो दौड़ने की शुरुआत ही 93 साल की उम्र में की। अगले महीने दिल्ली में होने वाले पिंकाथन में अपना दम दिखाने की तैयारियों में जुटीं मान कौर हाल ही में इसी सिलसिले में हुए एक इवेंट में हिस्सा लेने राजधानी आई थीं। अपनी उम्र के 100 से ज्यादा बसंत देख चुकी मान कौर का दम और उनकी बुलंद आवाज सुनकर वहां मौजूद 20-25 साल की लड़कियां भी आहें भरने लगीं कि पता नहीं हम आपकी उम्र तक पहुंच भी पाएंगी या नहीं और अगर पहुंची भी तो पता नहीं हमारा क्या हाल होगा।

शुरुआत कभी भी हो सकती है

अक्सर हम कोई भी शुरुआत करते वक्त यही सोचते हैं कि हम लेट हो गए, लेकिन मान कौर ने जब 93 साल की उम्र में दौड़ना शुरू किया, तो हर कोई हैरान रह गया। मान कौर के साथ आए उनके बेटे गुरुदेव सिंह ने बताया, ‘हमने कई बार अखबारों में और टीवी में देखा था कि आजकल बड़ी उम्र के बुजुर्ग भी खेलों में हिस्सा लेकर कमाल कर रहे थे। ऐसे में, हमने अपनी माताजी को भी मौका आजमाने के लिए मनाया। माताजी ने अपनी शुरुआत 93 साल की उम्र में चंडीगढ़ यूनिवर्सटी में होने वाली दौड़ में हिस्सा लिया। वहां उन्होंने बढ़िया परफॉर्म किया तो फिर यह सिलसिला थमा नहीं। उसके बाद उन्होंने एक के बाद एक दुनिया भर के कॉम्पिटीशनों में हिस्सा लिया और तमाम रिकॉर्ड बनाए। ऊपरवाले का शुक्र है कि वह 101 साल की उम्र में भी इतनी फिट हैं।’

खाने-पीने का ख्याल रखो

जब हमने मान कौर से इस उम्र में उनकी फिटनेस का राज पूछा, तो उन्होंने अपनी बुलंद आवाज में बताया, ‘फिटनेस का राज आपके खाने-पीने में छिपा है। अगर कसरत करने के साथ आपका खाना-पीना अच्छा हो, तो आपको कभी कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी। मैं रोजाना सुबह उठकर कच्चा दूध लेती हूं, जो कि सेहत के लिए अच्छा होता है। उसके बाद मिक्स अनाज की चार रोटियां। इसके अलावा भी पूरे दिन में मैं ताजा जूस, फल, रोटियां और दूसरी चीजें लेती हूं। और तो और मैं जब विदेश जाती हूं, तो वहां भी खाने-पीने का पूरा ख्याल रखती हूं। दौड़ना शुरू करने से पहले मेरी खुराक बहुत कम हो गई थी, लेकिन अब मेहनत करती हूं, तो दोबारा खुराक बढ़ गई है।’ मान कौर ने अपनी कामयाबी से कई पीढ़ियों को प्रेरित किया है। वह बताती हैं, ‘मुझे खुशी है कि मेरी कामयाबी देखकर मेरे से छोटी तीन-चार पीढ़ियां भी कामयाबी की राह पर चलने का सपना देख रही हैं। मेरा उनसे सिर्फ यही कहना है कि अगर मेहनत करोगी, तो कुछ भी कर सकती हो।’

खूब बनाए वर्ल्ड रिकॉर्ड

Advertisment

मान कौर ने बताया कि उन्होंने पिछले दिनों न्यूजीलैंड के ऑकलैंड में हुए वेटरन्स के ओलिंपिक माने जाने वाले वर्ल्ड मास्टर्स गेम्स, में 100 मीटर की दौड़ महज 1 मिनट 14 सेकंड में पूरी कर ली, जो कि अपने आप में एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। उनकी उम्र को देखते हुए डॉक्टर्स ने मेडिकल चेकअप के बाद उन्हें दौड़ने की परमीशन दी थी। 100 साल से ज्यादा की उम्र में रनिंग ट्रैक पर उतरीं मान इकलौती थीं। इस तरह मान ने अपना ही वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया। बीते साल उन्होंने वैंकूवर में हुए अमेरिकन मास्टर्स गेम्स में यही रेस 1 मिनट 21 सेकंड में पूरी की थी। लेकिन इस बार उन्होंने 7 सेकंड पहले ये कारनामा कर दिखाया। इससे पहले भी उन्होंने तमाम मेडल जीते हैं। मान की सबसे बड़ी खासियत यह है कि वह किसी भी हालात में घबराती नहीं। उनके बेटे गुरुदेव ने बताया, ‘न्यूजीलैंड में हमने 192 मीटर ऊंचा स्काई वॉक देखा। मुझे नीचे देखकर घबराहट हुई, लेकिन माताजी नहीं मानी और उन्होंने वहां स्काई वॉर्क करने की ठान ली। इस तरह वह सबसे ज्यादा उम्र में स्काई वॉक करने वाली महिला बन गईं।’

Related Articles

Advertisment
Show More
Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment