Advertisment
UK

यूके की यूनिवर्सिटी में एडमिशन का फंडा – how to get admission in UK university

Advertisment

अपराजिता कालरा
अगर आप चाहते हैं कि यूके की यूनिवर्सिटी में आपकी ऐप्लिकेशन समय से और सही से पहुंचे तो इसके लिए आपको खुद तैयारी करनी होगी। सबसे पहले, यह तय करें कि जिस इंस्टिट्यूशन में आप अप्लाई कर रहे हैं, वह प्रोग्राम आपके लिए सही हो, साथ ही आपकी जरूरत के हिसाब से पढ़ाई का अच्छा माहौल और रहने की जगह भी हो।

प्रोग्राम के बारे में अच्छे से जांच कर लें। वैसे तो पेपर पर सभी कोर्सेज के टाइटल एक जैसे लगते हैं लेकिन अलग-अलग यूनिविर्सिटी में उनका मतलब अलग-अलग होता है। जैसे मॉड्यूल कंटेंट, टीचिंग और असेसमेंट के तरीके, अकैडमिक एक्परटाइज के एरिया के संदर्भ में यह अलग हो सकते हैं। प्रोग्राम के मौजूदा स्टूडेंट्स और एल्युमिनाई के प्रोफाइल देख लें। क्या वह वहां हैं, जहां आप पहुंचना चाहते हैं?

यह तय कर लें कि आपको चुने हुए प्रोग्राम में एंट्री की सभी जरूरतों के बारे में पता हो। खुद को योग्य कैंडिडेट साबित करने के लिए पहले से जरूरी सभी चीजों को ध्यान से देख लें। इसमें हाई स्कूल से लेकर यूनिवर्सिटी तक की अकैडमिक आवश्यकताएं, साथ ही इंग्लिश शामिल हो सकती हैं। कुछ पोस्टग्रैजुएट प्रोग्राम वर्क एक्सपीरियंस भी मांगते हैं और पोस्टग्रैजुएट रिसर्च ऐप्लिकेशन तो अक्सर आपका लिखा रिसर्च प्रपोजल मांगते हैं।

कोर्स को लेकर अपनी जरूरतों और अपने करियर के बारे में चर्चा करने के लिए भारत में मौजूद यूनिवर्सिटी के प्रतिनिधियों से मिलें। आप एग्जिबिशन, एजुकेशन फेयर में और उनके लोकल एजेंट ऑफिस के जरिए यूनिवर्सिटी स्टाफ से मिल सकते हैं। ब्रिटिश यूनिवर्सिटीज में कैसे अप्लाई करना है, एजेंट इसके बारे में विस्तार से बता सकते हैं। कुछ यूनिवर्सिटी जैसे यूनिवर्सिटी ऑफ बर्मिंगम के भारत में लोकल ऑफिस हैं, जहां का स्टाफ ऐप्लिकेंट्स की पूरी मदद करता है।

अपनी चुनी हुई यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट लाइफ के बारे में आप जितना जान सकते हैं, जानें। वहां के मौजूदा स्टूडेंट्स के साथ स्टूडेंट सोसायटी वेबसाइट्स, फेसबुक और दूसरे सोशल मीडिया के जरिए आसानी से जुड़ा जा सकता है। मौजूदा स्टूडेंट्स और अलुमनाई, नए स्टूडेंट्स की मदद करने और उनके साथ अनुभव बांटने में दिलचस्पी रखते हैं।

अपना हिसाब बनाएं, ऐप्लिकेशन की डेडलाइन चेक करें, स्कॉलरशिप के लिए कोशिश करें, ट्यूशन फीस और रहने का खर्चा भी देखें।

सबसे जरूरी, यह तय कर लें कि आप की ऐप्लिकेशन कंप्लीट हो। अगर आपके जरूरी डाक्यूमेंट्स या डीटेल नहीं होंगी तो यूनिवर्सिटी आपका पूरा असेसमेंट और आपको एडमिशन का ऑफर नहीं दे पाएगी। अगर आप अंडरग्रैजुएट स्टडी के लिए अप्लाई कर रहे हैं तो आपको www.ucas.com पर एप्लिकेशन देनी होगी। इस एप्लिकेशन सिस्टम का इस्तेमाल आप आसानी से कर सकते हैं लेकिन आपको अपने टीचर से रेफरेंस लेना होगा और साथ ही अपने अनुमानित ग्रेड्स भी बताने होंगे, अगर आप रिजल्ट आने से पहले अप्लाई कर रहे हैं। अगर आप पोस्टग्रैजुएट प्रोग्राम के लिए अप्लाई कर रहे हैं तो आप यूनिवर्सिटी में सीधे ही ऑनलाइन अप्लाई कर सकते हैं। आपको अक्सर 2 रेफरेंस और सपोर्टिंग डाक्युमेंट्स देने होते हैं। जरूरी है कि आप अपना होमवर्क करें और पूरी तैयारी रखें। यूके का एक्सपीरियंस पूरी जिंदगी आपके साथ रहेगा। इसलिए पूरी रिसर्च करें, सही कोर्स सिलेक्ट करें और अपनी रुचि, क्वॉलिफिकेशन और करियर गोल के हिसाब से यूनिवर्सिटी चुनें।

(लेखिका, यूनिवर्सिटी ऑफ बर्मिंगम की कंट्री ऑफिसर हैं। नई दिल्ली में यूनिवर्सिटी का ऑफिस 2009 में खुला, वह तभी से यहां काम कर रही हैं।)

Advertisment

Related Articles
Advertisment
Show More
Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment
Back to top button
%d bloggers like this: