Advertisment
MUMBAI

हेमंत नागराले बने नए मुंबई सीपी: hemant nagrale has appointed as new mumbai cp: पुलिस के नए कमिश्नर बनाए गए पूर्व डीजीपी हेमंत नागराले

Advertisment

हाइलाइट्स:

  • मुंबई पुलिस के नए कमिश्नर बनाए गए पूर्व डीजीपी हेमंत नागराले
  • परमवीर सिंह को हटाकर हेमंत नागराले को बनाया गया है
  • मुंबई के पूर्व कमिश्नर परमवीर सिंह को अब डीजी होमगार्ड बनाया गया है।
  • वहीं रजनीश सेठ महाराष्ट्र के नए डीजीपी का अतिरिक्त कार्यभार को संभालेंगे

मुंबई
मुकेश अंबानी धमकी (Mukesh Ambani Threat Case) और मनसुख हिरेन हत्या मामले में फंसे सचिन वझे की वजह से महाराष्ट्र सरकार और पुलिस विभाग की इज्जत पर बट्टा लग रहा था। अपनी गिरती साख बचाने और डैमेज कंट्रोल के लिए महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई पुलिस कमिश्रर परमबीर सिंह (Parambir Singh) की छुट्टी कर उनकी जगह हेमंत नागराले को कमिश्नर बना दिया है। सरकार ने इसके अलावा कुछ और आईपीएस अधिकारियों के तबादले भी किये हैं। सरकार भले ही इसे मार्च- अप्रैल महीने में होने वाला रूटीन ट्रांसफर बात रही हो लेकिन सियासी गलियारों से आने वाली खबरों के मुताबिक यह ट्रांसफर पवार की नाराजगी की वजह से हुआ है। आइए जानते हैं इन तबादलों के पीछे का पूरा सच!

एनसीपी के दबाव में हुआ सीपी का तबादला?
कुछ दिनों पहले शरद पवार (Sharad Pawar) ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ वर्षा बंगले पर मीटिंग की थी। इस मीटिंग में पवार इस पूरे प्रकरण से काफी नाराज बताए जा रहे थे। जिसके बाद दिल्ली में शिवसेना के कई नेताओं ने पवार से मुलाकात कर अपना पक्ष रखा था। इसके अलावा भी गृहमंत्री अनिल देशमुख की इस तबादले के पहले मुख्यमंत्री के साथ दो बार मीटिंग हुई थी। एनसीपी ने मीटिंग में अपनी भूमिका स्पष्ट कर दी थी और कहा था कि मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को तत्काल हटाया जाना चाहिए। हालांकि कुछ शिवसेना नेताओं का मानना था कि फडणवीस के सामने सरेंडर होने से अच्छा है कि कुछ और अधिकारियों का तबादला करके इसे रूटीन ट्रांसफर बताया जाए।

वझे की वजह से परमबीर की छुट्टी
माना जा रहा है कि परमवीर सिंह का सचिन वझे (Sachin Waze) पर भरोसा और उनके गलत कामों को नजरअंदाज करने की वजह से भी उन्हें हटाया गया है। इस मामले में सिंह से भी पूछताछ हो सकती है। घाटकोपर बम धमाकों के आरोपी ख्वाजा यूनुस की हत्या के मामले में निलंबित चल रहे पुलिस अधिकारी सचिन वझे को पुलिस विभाग में दोबारा लाने के लिए तत्कालीन मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने एक हलफनामा भी दिया था। जिसमें उन्होंने लिखा था कि कोरोना महामारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए वझे जैसे अधिकारियों की पुलिस विभाग को जरूरत है।

वझे के पुराने बॉस रह चुके हैं परमबीर सिंह
मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह 90 के दशक में मुंबई शहर में बतौर डीसीपी काम कर चुके हैं। उस दौरान उन्होंने क्राइम ब्रांच की टीम द्वारा किए गए कई एनकाउंटरों की निगहबानी भी की है। सिंह की टीम में कई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट थे। जिनमें 26 नवंबर आतंकी हमले में मारे गए दिवंगत विजय सालसकर, प्रफुल्ल भोसले सबसे ज्यादा एनकाउंटर करने वाले प्रदीप शर्मा सचिन वझे और हेमंत देसाई समेत कई लोग शामिल थे।

परमबीर सिंह और विवाद
परमवीर सिंह 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। उन्होंने अपने करियर में जितनी बुलंदियां हासिल की हैं उतने ही विवादों से उनका नाता भी रहा है। साल 2018 में बतौर एडिशनल डीजी लॉ एंड ऑर्डर रहते हुए उन्होंने माओवादियों से संबंधित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। जिसमें उन्होंने जो माओवादियों द्वारा लिखे गए कई लेटर्स को पढ़ा था। तब राज्य में देवेंद्र फडणवीस की सरकार थी और पुलिस की इस प्रेस कॉन्फ्रेंस का विपक्ष ने जमकर विरोध भी किया गया था। खाना की महा विकास आघाडी सरकार बनते ही सुशांत सिंह राजपूत मामले में परमवीर सिंह का ठाकरे सरकार ने समर्थन भी किया था और उनकी कुर्सी तक जाते-जाते बची थी।

झूठे मामले में फंसाने के आरोप
साल 2010 में परमवीर सिंह महाराष्ट्र सीआईडी के राडार पर भी थे। उन पर तब प्रोवोग के को-ओनर सलिल चतुर्वेदी को एक ड्रग मामले में फंसाने का आरोप लगा था। मालेगांव बम धमाकों के आरोपी मौजूदा बीजेपी सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह के शोषण का आरोप है तब के एटीएस अधिकारी परमबीर सिंह पर लग चुका है। परमवीर सिंह पिछले साल 29 फरवरी को मुंबई पुलिस कमिश्नर बनाए गए थे।

कमिश्नर बनते ही दस अधिकारियों का ट्रांसफर
परमवीर सिंह पर कमिश्नर बनने के कुछ दिन बाद ही 10 डीसीपी रैंक के अधिकारियों का तबादला करने का भी आरोप लगा था सरकार ने उनके इस मनमाने फैसले को बाद में रूप दिया था।

पढ़ें: जब हेमंत नागराले ने बचाई थी कइयों की जान

Advertisment

टीआरपी स्कैम मामला और परमबीर सिंह
पिछले साल अक्टूबर महीने में परमबीर सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए टीआरपी घोटाले का पर्दाफाश किया था। इस घोटाले में रिपब्लिक टीवी समेत कुछ अन्य चैनलों के कर्मचारियों और अधिकारियों पर पैसे देकर टीआरपी बढ़ाने का आरोप लगा था। इस मामले में भी सरकार ने उनका समर्थन किया था।

Related Articles

पढ़ें: हेमंत नागराले बने मुंबई पुलिस के नए कमिश्नर

देश का पहला मामला
हेमंत नागराले (New Mumbai CP Hemant Nagrale) फिलहाल राज्य के सबसे वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हैं। बावजूद इसके रजनीश सेठ को महाराष्ट्र के डीजीपी की कमान दी गई है। आमतौर पर वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी को ही यह पदभार दिया जाता है। संभवत देश में इस प्रकार का यह पहला मामला होगा। नागराले भले ही राज्य के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हैं, लेकिन महाराष्ट्र में कार्यरत हर आईपीएस अधिकारी अपने कार्यकाल के दौरान मुंबई शहर का पुलिस कमिश्नर बनने का सपना देखता है। जब परमबीर सिंह मुंबई के पुलिस कमिश्नर बने थे तब हेमंत नागराले भी रेस में प्रबल दावेदार माने जा रहे थे

Parambir Singh and Hemant Nagrale

मुंबई पुलिस के नए कमिश्नर बनाए गए पूर्व डीजीपी हेमंत नागराले

Advertisment
Show More
Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment