MUMBAI

100 crore letter: maharashtra political crisis latest update: परमबीर सिंह की चिट्ठी के बाद महाराष्‍ट्र में राजनीतिक संकट

मुंबई
महाराष्‍ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में चल रही महाविकास अघाड़ी सरकार पर संकट का साया लगातार गहराता जा रहा है। मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह की मुख्यमंत्री के नाम लिखी गई चिट्ठी में सीधे गृह मंत्री अनिल देशमुख पर पुलिस अधिकारियों के जरिए वसूली किए जाने के आरोप ने इस संकट को और बड़ा कर दिया है। विपक्ष में बैठी बीजेपी ने पूर्व पुलिस आयुक्त के इन आरोपों को जिलेटिन से ज्यादा विस्फोटक करार दिया है। बीजेपी ने अनिल देशमुख के इस्तीफे और उनका नारको टेस्ट कराए जाने की मांग की है।

विधानसभा में विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि परमबीर सिंह के ये खुलासे जिलेटिन की छड़ों से भी ज्‍यादा विस्‍फोटक हैं। फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र में शायद ये ऐसा पहला मामला हो, जब किसी बड़े पुलिस अधिकारी ने सीएम को इतने गंभीर आरोप लगाते हुए पत्र लिखा हो। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि परमबीर सिंह ने अपने पत्र में लिखा है कि इस मामले की जानकारी उन्होंने मुख्यमंत्री को पहले दी थी। ऐसे में, सवाल उठता है कि आखिर तब मुख्यमंत्री ने क्यों कार्रवाई नहीं की?

Parambir Singh Letter: अमृता फडणवीस ने पूछा, ‘राजा को बचाने के लिए कितनों की बलि देनी होगी’

संजय राउत का ट्वीट… या कोई इशारा
चर्चा है कि यह लेटर कांड के बाद शिवसेना एनसीपी के साथ अपने रिश्तों पर सोचने पर मजबूर हो गई है। दूसरी तरफ बीजेपी ने शिवसेना के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कोशिशें तेज कर दी हैं। रविवार सुबह शिवसेना सांसद संजय राउत के शायराना ट्वीट को इसी तरफ इशारे के रूप में देखा जा रहा है। रविवार सुबह किए इस ट्वीट में संजय राउत ने ‘सुप्रभात’ कहते हुए मशहूर शायर और गीतकार जावेद अख्‍तर का एक शेर पोस्‍ट किया है। इसमें लिखा है, ‘हमको तो बस तलाश नए रास्‍तों की है, हम हैं मुसाफिर ऐसे जो मंजिल से आए हैं।’ अपने इस शेर के जरिए संजय क्‍या कहना चाहते हैं यह उन्‍होंने पढ़ने वालों पर छोड़ दिया है।

अब ईडी की हो सकती है एंट्री
100 करोड़ रुपये की वसूली मामले में अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की एंट्री कभी हो सकती है। इसकी संभावना व्यक्त की जा रही है। देवेंद्र फडणवीस ने इस मामले की जांच केंद्रीय एजेंसियों करने की मांग की है। इससे अनुमान लगाया जा रहा है कि इस मामले की जांच में ईडी शामिल हो सकती है।

परमबीर के वीआरएस की चर्चा
परमबीर ने जिस तरह से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर जानकारी दी है। इससे चर्चा निकल पड़ी है कि सरकार से पंगा लेकर काम करना उनके लिए कठिन होगा। इससे इस बात की संभावना व्यक्त की जा रही है कि परमबीर सिंह वीआरएस भी ले सकते हैं।

आंदोलन की चेतावनी
गृह मंत्री अनिल देशमुख पर वसूली के आरोप और आरोपों पर उनकी सफाई के बाद बीजेपी सांसद मनोज कोटक ने अनिल देशमुख, परमबीर सिंह और सचिन वाझे तीनों का नार्को टेस्ट कराने की मांग की है। बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांतदादा पाटील ने कहा कि महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने अपने कारनामों से यह सिद्ध कर दिया है कि महाराष्ट्र की राजनीति का पूरी तरह अपराधीकरण हो गया है।

उन्‍होंने आगे कहा, ‘सरकार में थोड़ी सी भी शर्म बची हो, तो पूरी सरकार को तुरंत इस्तीफा देकर महाराष्ट्र की साढ़े 11 करोड़ जनता से माफी मांगनी चाहिए। रविवार की सुबह तक अगर मुख्यमंत्री ने गृहमंत्री पद से अनिल देशमुख को नहीं हटाया गया, तो बीजेपी पूरे राज्य में आंदोलन शुरू कर देगी।’

parambir singh amil deshmukh

Related Articles

परमबीर सिंह, अनिल देशमुख (फाइल फोटो)

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: