MUMBAI

ed inquiry against sachin waze: money counting machine will be the biggest evidence against sachin waze and uddhav government रुपये गिनने वाली मशीन बनेगी सबसे बड़ा ऐविडेंस ED जांच से बढ़ने वाली हैं सचिन वझे और उद्धव सरकार की मुसीबतें

मुंबई
परमबीर सिंह ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में अपने तबादले के खिलाफ के अलावा महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर उनके द्वारा लगाए गए आरोपों की सीबीआई जांच को लेकर याचिका दायर की है। पर इस पूरे घटनाक्रम में नई खबर यह आ रही है कि प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी भी सचिन वझे के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग एंगल से जल्द इनवेस्टिगेशन शुरू करने वाला है। वझे के खिलाफ जांच की आंच अनिल देशमुख व महाराष्ट्र के मंत्रियों पर भी आ सकती है।

सचिन वाझे अभी एनआईए की कस्टडी हैं। सूत्रों के अनुसार, ईडी के अधिकारी वाझे के बारे में एनआईए से जानकारी लेने वाले हैं। उसके बाद वह इनवेस्टिगेशन शुरू कर देंगे। एनआईए को इसके लिए केंद्र सरकार या सुप्रीम कोर्ट के आदेश की जरूरत नहीं है। वह किसी भी जांच एजेंसी के पास दर्ज एफआईआर से अपनी जांच शुरू कर सकती है।

सुप्रीम कोर्ट पहुंचे परमबीर सिंह का आरोप, मोहन डेलकर आत्महत्या मामले में BJP नेताओं को फंसाना चाहते थे देशमुख

वझे के पास से मिली रुपये गिनने वाली मशीन
सचिन वाझे मनी लॉन्ड्रिंग केस में इस वजह से फंस सकते हैं, क्योंकि परमबीर सिंह ने तो आरोप लगाया ही था कि अनिल देशमुख ने वझे से 100 करोड़ रुपये का कलेक्शन हर महीने करने को कहा था। वझे इस वजह से भी ईडी की रडार पर हैं, क्योंकि एनआईए ने उनकी गिरफ्तारी के बाद पांच महंगी गाड़ियां, मोबाइल फोन के साथ उनके पास से पांच लाख रुपये के कैश के अलावा रुपये गिनने वाली मशीन भी जब्त की थी। इस मशीन के बाद उनकी नामी, बेनामी संपत्तियों, बैंक अकाउंट्स भी तो जांच होगी ही, उनके पिछले साल पुलिस सर्विस में आने के बाद के सभी वॉट्सऐप चैट्स की भी जांच होगी। ऐसा पता चला है कि सचिन वझे दूसरों के नाम के सिम कार्ड यूज करते थे। हिरेन मनसुख मर्डर में भी ऐसे ही कार्ड यूज हुए थे।

परमबीर के आरोपों की होगी जांच

परमबीर के आरोपों की होगी जांच

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: