GAJIYABAD

Ghaziabad news: corona guidelines for uttar pradesh : यूपी में कोरोना वायरस की गाइडलाइंस

हाइलाइट्स:

  • यूपी में भी बढ़ रहे कोरोना के मामले, सरकार ने जारी की गाइडलाइं
  • गाजियाबाद में बीते पांच दिनों में दोगुना हुए कोविड-19 के केसेस
  • जिला प्रशासन ने कोरोना गाइडलाइंस का सख्ती से पालन कराने का दिया आदेश
  • धरना-प्रदर्शन पर रोक, 5 से ज्यादा लोक एक जगह नहीं हो सकेंगे एकत्र

गाजियाबाद
देश, प्रदेश समेत गाजियाबाद में भी कोरोना संक्रमण फिर बेकाबू होने लगा है। मार्च में कोरोना संक्रमण की दर 0.71 थी। महज 5 दिनों में ही यह दोगुनी होकर 1.42 हो गई। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने की जिम्मेदारी पुलिस को दी गई है।

मास्क न पहनने पर चालान होगा। होटल, मॉल, अस्पताल, चुनाव प्रचार में खास एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं। जिले में धारा 144 लगाई गई है। ऐसे में किसी भी तरह के धरना-प्रदर्शन नहीं हो सकेंगे। 5 या उससे ज्यादा लोग एक साथ नहीं चल सकते हैं।

कार्यक्रम स्थल पर क्षमता से आधे लोगों की ही मौजूदगी
किसी भी कार्यक्रम में अधिकतम 100 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी। डीएम डॉ. अजय शंकर पांडेय ने कहा, अधिकतम 100 लोगों में एक और नियम जुड़ा रहेगा। जहां कार्यक्रम होगा, उस जगह की कैपिसिटी से आधे लोग ही मौजूद होने चाहिए।

कार में एक से ज्यादा लोग होने पर लगाना होगा मास्क
किसी सोसायटी में अगर एक मरीज मिलेगा तो उस फ्लोर पर रहने वाले सभी लोगों की कोरोना जांच कराई जाएगी। उन्हें 14 दिन होम क्वारंटीन भी किया जाएगा। लेकिन, एक से ज्यादा केस मिले तो सोसायटी के सभी रेजिडेंट्स का टेस्ट कराया जाएगा और सभी से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराया जाएगा। कार में एक से ज्यादा लोग हैं तो सभी को मास्क लगाना होगा।

चुनाव प्रचार के दौरा प्रोटोकॉल का पालन जरूरी
सार्वजनिक स्थानों पर मास्क और सामाजिक दूरी का कड़ाई से पालन कराया जाएगा। नियम तोड़ने वालों के चालान के निर्देश दिए गए हैं। दुपहिया वाहन पर 2 सवारी होने पर दोनों लोगों को मास्क लगाना होगा। चुनाव प्रचार के दौरान भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। 5 से ज्यादा लोगों के एक साथ चुनाव प्रचार करने पर रोक रहेगी। इन्हें भी मास्क और सामाजिक दूरी का ध्यान रखना होगा।

मॉल, होटल, रेस्टोरेंट के लिए ये नियम
मॉल, होटल और रेस्टोरेंट पर ज्यादा फोकस रहेगा। यहां कोरोना प्रोटोकॉल कराने की जिम्मेदारी ओनर की होगी। अगर तय संख्या से ज्यादा लोग अंदर हैं तो बाकी ग्राहकों को बाहर ही रोकना होगा। पुलिस प्रशासन की टीम औचक निरीक्षण करेगी। बगैर मास्क, सामाजिक दूरी के यहां कोई मिला तो उस व्यक्ति के साथ ही ओनर पर भी कार्रवाई होगी।

कंटेनमेंट जोन का बढ़ेगा दायरा
मार्च में कोरोना संक्रमण से रिकवरी रेट 99.3 पर्सेंट था। अभी यह एक पर्सेंट कम होकर 98.2 पर्सेंट पर आ गया है। शहरी क्षेत्र में जहां कोरोना संक्रमित व्यक्ति मिलेगा उसके आसपास के 20 मकानों की जांच के साथ ही में रहने वालों को बाहर निकलने की मनाही होगी। यदि अधिक कोरोना मरीज मिलते हैं तो यह नियम 60 मकानों पर लागू होगा। यह पाबंदी 14 दिन तक रहेगी।

अस्पतालों में बस एक तीमारदार
अस्पतालों में अब मरीज के साथ केवल एक ही तीमारदार जा सकेगा। अस्पताल में मरीज और तीमारदार दोनों का एंटीजन टेस्ट किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। कोविड हेल्प डेस्क बनाने के साथ होल्डिंग एरिया भी बनाने के निर्देश दिए गए हैं। अस्पताल पहुंचने वाले प्रत्येक व्यक्ति का एंटीजन टेस्ट होगा और लक्षण वालों का आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाया जाएगा। यदि किसी को भर्ती किया जाता है तो उसे होल्डिंग एरिया में रखा जाएगा और कोरोना की रिपोर्ट आने पर उसे शिफ्ट किया जाएगा। यदि अस्पताल में आने वाला कोई मरीज पॉजिटिव पाया जाता है तो उस स्थान को सैनेटाइज किया जाए और 12 घंटे तक सील रखा जाए।

हेल्पडेस्क फिर चलाने के निर्देश
पिछले साल 200 से ज्यादा कोविड हेल्पडेस्क बनाई गईं थीं। लेकिन, अधिकांश केवल कागजों में चल रही थईं। संसाधन और स्टाफ की कमी की वजह से हेल्पडेस्क तय नियम के मुताबिक नहीं चल सकी थीं। शासन ने अब फिर कोविड हेल्पडेस्क को शुरू करने का निर्देश दिया है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि हेल्पडेस्क चल रही हैं।

Related Articles
कोरोना के बढ़ते केस

सांकेतिक चित्र

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: