Advertisment
AHEMDABAD

Gujarat news: Gujarat news: महज आठ दिन में कोरोना को मात देकर ठीक हुए 108 साल के जयंती – 108 years old jayanti defeated coronavirus within 8 days in gujarat

Advertisment

अहमदाबाद
उनके परिवार के सदस्य और पड़ोसी हमेशा उन्हें एक फाइटर मानते हैं। वह सबके बीच अपने अच्छे कारणों के चलते प्रसिद्ध हैं। अब 101 साल के जयंती चोकसी ने फिर से लोगों को प्रेरित किया है। उन्होंने महज आठ दिनों में कोरोना वायरस को हरा दिया। इसके साथ ही जयंती गुजरात पहले सबसे उम्र दराज बुजुर्ग हैं जिन्होंने कोरोना को हराया है। के वडोदरा से हैं।

कुछ दिनों तक ख़राब स्थिति में रहने के बावजूद, अहमदाबाद के गुलबाई टेकरा के रहने वाले चोकसी शुक्रवार को अपने घर में एक जोशीली मुस्कान के साथ अस्पताल से वापस लौटे।

बहुत जल्दी किया रिकवर
चोकसी का इलाज करने वाले डॉ. अनिकेत शाह ने बताया, ‘जब उन्हें अस्पताल लाया गया था, तो उनकी हालत खराब थी क्योंकि उन्हें सांस लेने में कठिनाई और ऑक्सीजन के स्तर में तेज गिरावट थी। उन्हें कुछ दिनों के लिए ऑक्सीजन सपॉर्ट पर रखा गया। उनकी किडनी भी खराब हो गई थी। लेकिन इलाज के दौरान उनमें अच्छे सुधार नजर आए और उन्होंने बहुत ही जल्दी रिकवर कर लिया।’

शुरू में रहे चिड़चिड़े
डॉ. शाह ने बताया क शुरू में, वह चिड़चिड़े से थे। वह अपने घर जाना चाहते थे। लेकिन जब उनका स्वास्थ्य ठीक होने लगा तो उन्हें अच्छा लगने लगा। वडोदरा में उनकी भतीजी रिंकी चोकसी ने कहा कि चोकसी ने एक निजी अस्पताल में कोरोना वायरस पॉजिटिव होने के बाद भर्ती कराया गया।

आईसीयू में गए तो घबराए लोग
रिंकी ने कहा, ‘हम चिंतित हो गए क्योंकि उन्होंने कुछ दिनों तक आईसीयू में भर्ती रहने के बाद बात करना बंद कर दिया। हालांकि बाद में जयंती काका ने बातचीत शुरू कर दी। उन्होंने अस्पताल में कहा कि वह ठीक होकर घर लौटेंगे और ऐसा ही हुआ।’ रिंकी ने कहा कि हम सभी उन्हें गूगल बाबा कहते हैं क्योंकि उन्हें कई विषयों के बारे में बहुत जानकारी है।

सरकारी अस्पताल को दान दिया था 30 लाख रुपये
चोकसी 1980 में मुंबई में देना बैंक से सेवानिवृत्त हुए और अपनी पत्नी शांता के साथ अहमदाबाद चले गए जो अब 97 साल की हैं। वह जल्द ही गुजरात राज्य वित्त निगम में शामिल हो गए और कई संस्थानों में सलाहकार थे। उनके कोई बच्चे नहीं हैं। लगभग एक दशक पहले, जयंती काका ने इलाके के गरीब लोगों के इलाज की सुविधा के लिए गुलबाई टेकरा में एक सरकारी अस्पताल के निर्माण के लिए 30 लाख रुपये का दान दिया था।

Advertisment
Show More
Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment
Back to top button
%d bloggers like this: