KHAGADIYA

khagaria man ram kumar free: bihar ke yuvak ko ulfa ne kia kaid yuvak ko ab mili rihayi : उग्रवादी संगठन उल्फा की कैद से रिहा हुए ऑयल कंपनी के कर्मी राम कुमार तीन महीने बाद छूटे

पटना
नागालैंड में उग्रवादी संगठन उल्फा (आई) के उग्रवादियों ने तेल खनन कंपनी के दूसरे कर्मचारी बिहार के नागरिक राम कुमार को भी रिहा कर दिया है। करीब तीन महीने से ज्यादा समय तक कैद में रखने के बाद उन्हें सोमवार को छोड़ दिया गया। 28 वर्षीय राम कुमार खगड़िया के औलौली थाना क्षेत्र स्थित बहादुरपुर के मूल निवासी हैं। उनके अगले तीन से चार दिनों में अपने घर लौटने की उम्मीद है। इस सूचना के बाद उनके घर और गांव में खुशी का माहौल है।

108 दिन में बाद राम कुमार को मिली रिहाई
असम राइफल्स की तरफ से जारी बयान में बताया गया कि बिहार के निवासी राम कुमार को 108 दिनों के बाद म्यांमार की तरफ लुंगवा गांव में रिहा किया गया। मोन जिले के लुंगवा गांव में असम राइफल्स के सीमा गश्ती दल ने उन्हें अपने कब्जे में ले लिया। उल्फा (आई) और एनएससीएन (के) के उग्रवादियों ने पिछले साल 21 दिसंबर को क्विप्पो ऑयल एंड गैस इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के कर्मी प्रणब कुमार गोगोई और राम कुमार को अरूणाचल प्रदेश के चांगलांग जिले के इन्नावो से अपहरण कर लिया था। प्रणब कुमार को 3 अप्रैल को मुक्त कर दिया गया था।

इसे भी पढ़ें:- आईआईटी बिहटा में कोरोना की एंट्री से हड़कंप, 15 छात्र मिले पॉजिटिव, होली की छुट्टी के बाद लौटे थे कैंपस

सुरक्षित रिहाई के लिए की गई 20 करोड़ की डिमांड
अरुणाचल प्रदेश के किप्पो ऑयल एंड गैस इंफ्रास्ट्रक्चर में काम करने वाले बिहार के एक रेडियो ऑपरेटर (Radio Operator) राम कुमार का अपहरण किया गया था। जिसके बाद उनके परिजनों ने बिहार सरकार से उनके रिहाई की गुहार लगाई थी। राम कुमार की पत्नी ने बताया कि उन्हें पहले पता चला कि उग्रवादियों ने उनके पति की सुरक्षित रिहाई के लिए 20 करोड़ रुपये की मांग की थी। इस बीच उल्फा ने राम कुमार को रिहा कर दिया है।

चांगलांग के डिप्टी कमिश्नर (डीसी) देवांश यादव ने फोन पर बताया कि राम कुमार को नागालैंड के मोन जिले में तजीत थाना क्षेत्र के तहत एक स्थान पर मुक्त किया गया था। पुलिस टीम राम कुमार से पूछताछ करेगी और फिर उन्हें मेडिकल जांच से भी गुजरना होगा। उसके बाद, उन्हें बिहार में उनके घर भेजा जाएगा।

बिहार में कोचिंग बंद कराने पर छात्रों का बवाल

जल्द ही अपने घर पहुंचेंगे राम कुमार
अधिकारी ने कहा कि सोमवार को सभी प्रक्रियाएं पूरी होने के बाद उन्हें मंगलवार को घर भेज दिया जाएगा। देवांश यादव ने कहा कि राम कुमार और गोगोई को विद्रोहियों ने अलग स्थानों पर रखा था। यह पूछने पर कि क्या उग्रवादियों की मांग पूरी हुई, उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश पुलिस की एक विशेष जांच टीम अपहरण मामले को संभाल रही है। वही इस बारे में स्पष्ट तौर पर कुछ बता सकेगी। इस बीच खगड़िया के डीएम ने पुष्टि की है कि राम कुमार को छोड़ दिया गया है।

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: