Advertisment
MUMBAI

mansukh murder case: sachin waze took pradeep sharma name in staement: सचिन वझे द्वारा दिए गए स्टेटमेंट में प्रदीप शर्मा का भी नाम लिया गया था

Advertisment

हाइलाइट्स:

  • सचिन वझे के बाद अब एनआईए के राडार पर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा भी
  • एनआईए इस बात की जांच में जुटी हुई है कि कहीं शर्मा भी इस हत्याकांड में शामिल तो नहीं थे?
  • क्या उन्होंने सचिन वझे को लॉजिस्टिक सपोर्ट उपलब्ध करवाने में मदद की थी?
  • सचिन वझे द्वारा दिए गए स्टेटमेंट में प्रदीप शर्मा का भी नाम लिया गया था

मुंबई
एंटीलिया विस्फोटक मामले और मनसुख हिरेन हत्याकांड में दोबारा निलंबित सचिन वझे के बाद अब एनआईए के राडार पर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा भी हैं। प्रदीप शर्मा को एनआईए ने दूसरी बार पूछताछ के लिए बुलाया था। सूत्रों की माने तो एनआईए इस बात की जांच में जुटी हुई है कि कहीं शर्मा भी इस हत्याकांड में शामिल तो नहीं थे? क्या उन्होंने सचिन वझे को लॉजिस्टिक सपोर्ट उपलब्ध करवाने में मदद की थी? फिलहाल प्रदीप शर्मा की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं।

विशेष एनआईए अदालत ने शुक्रवार को सचिन वझे को 23 अप्रैल तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। वझे को 13 मार्च को गिरफ्तार किया गया था और उसकी एनआईए हिरासत समाप्त होने के बाद एक विशेष अदालत के समक्ष पेश किया गया था।

सचिन वझे द्वारा दिए गए स्टेटमेंट में प्रदीप शर्मा का भी नाम लिया गया था। जिसके आधार पर एनआईए ने प्रदीप शर्मा को पूछताछ के लिए बुलाया था। एंटीलिया के पास रखी गई जिलेटिन से भरी स्कॉर्पियो मामले में प्रदीप शर्मा भी शक के घेरे में हैं। प्रदीप शर्मा और सचिन वझे के संबंध कैसे थे? जिलेटिन कांड में प्रदीप शर्मा का कोई रोल है क्या? इन तमाम बातों की जानकारी एनआईए जुटाने में लगी हुई है। प्रदीप शर्मा और सचिन वझे की पहली मुलाकात की सीआईयू दफ्तर में और उसके बाद 3 मार्च को जेबी नगर में हुई थी। सिम कार्ड लोकेशन के जरिए दोनों की मुलाकात के रहस्य का पर्दाफाश हुआ था और इसी सिम कार्ड से मनसुख हिरेन को फोन भी किया गया था।

जांच में खुल रहे हैं कई राज
NIA की कस्टडी में फंसे निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वझे एक से बढ़कर एक कई राज खोल चुके हैं। NIA सूत्रों के मुताबिक इनमें लग्जरी गाड़ियों की जानकारी, मनसुख मर्डर केस में संलिप्तता एवं जिलेटिन कांड समेत हफ्तावसूली का रैकेट चलाना मुख्य रूप से शामिल है। हालांकि, वझे के वकील ने NIA के आरोपों को खारिज किया है, लेकिन NIA के वकील द्वारा NIA स्पेशल कोर्ट में दी गई दलील में वझे पर तमाम आरोप सबूत समेत लगाए हैं। इस कड़ी में ताजा मामला वझे के बैंक खाते में 1.5 करोड़ रुपये होने की नई बात सामने आई है, NIA के वकील ने कोर्ट में इसकी उचित एजेंसी से जांच कराने की मांग की है। बताया गया है कि यह रकम वझे के उस कारोबार से जुड़ी है, जिसके वह डायरेक्टर हैं।

अब तक 50 से अधिक पुलिसकर्मियों से पूछताछ
जिलेटिन कांड और मनसुख मर्डर केस में NIA अब तक मुंबई पुलिस के करीब 50 से अधिक पुलिसकर्मियों से पूछताछ कर चुकी है और रोजाना किसी न किस अधिकारी को बुलाकर पूछताछ की जा रही है। मनसुख मर्डर मिस्ट्री मामले में गिरफ्तार विनायक शिंदे और नरेश गौर से NIA की हुई पूछताछ में भी काफी जानकारी बाहर आईं हैं। इन्हीं जानकारी में इस मर्डर केस में वझे की संलिप्तता भी सामने आई हैं, जिसमें वझे ने इस वारदात को करने के लिए कई लोगों ने अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग किया है। इनमें प्रदीप शर्मा भी शामिल हैं, जिनसे दो दिनों से पूछताछ जारी है।

सूत्रों की मानें, तो इस घटना के सूत्रधार सचिन वझे से मिलने 2 से 5 मार्च के बीच कई अधिकारी उसके पुलिस मुख्यालय स्थित सीआईयू केबिन में पहुंचे थे। 5 मार्च को मनसुख हिरेन की लाश ठाणे के रेती बंदर खाड़ी में मिलने से पहले वझे की गतिविधियां काफी संदिग्ध थीं। इनमें वझे के साथ वरिष्ठ अधिकारियों की मुलाकात NIA अधिकारियों को सबसे ज्यादा खटक रही है।

pradeep sharma

प्रदीप शर्मा

Advertisment

Related Articles

Advertisment
Show More
Advertisment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisment