MUMBAI

mumbai news: Sachin vaze news: मुंबई के लग्जरी होटल से सचिन वझे कैसे चलाता था वसूली रैकेट? बीजेपी नेता ने खोले कई राज – bjp leader ram kadam reveals mystery in sachin vaze case

मुंबई
मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के सामने एसयूवी मामले का मुख्य आरोपी और गिरफ्तार किया गया पूर्व पुलिस अधिकारी सचिन वजे दक्षिणी मुंबई के मरीन ड्राइव में सी फेसिंग लग्जरी होटल से जबरन वसूली का रैकेट चलाता था। सचिन वजे जिस लैंड क्रूजर का यूज करता था, उसके सीसीटीवी फुटेज से पता चलता है कि मुकेश अंबानी के घर के पास विस्फोटक से भरी एसयूवी खड़ी करने की साजिश को अंजाम देने से पहले भी वह इस होटल का इस्तेमाल कर रहा था।

एसयूवी के मालिक मनसुख हिरेन की हत्या में कथित रूप से शामिल वजे का करीबी विनायक शिंदे भी इस होटल में स्पॉट किया गया था। यह होटल वजे के क्राइम ब्रांच ऑफिस से महज 10 मिनट की दूरी पर पर है। वजे के इस तरह अंडरवर्ल्ड से जुड़े होने का दावा किया जा रहा है।

‘कोविड के बहाने, वसूली के लिए जल्दी बंद करवाए गए थे बार’
बीजेपी के प्रवक्ता और विधायक राम कदम ने कहा है कि क्राइम ब्रांच के अधिकारी प्रसिद्ध होटल से ऐसा वसूली रैकेट संचालित किया जाना साफ दर्शाता है कि उसे सरकार में उच्च पदस्थ लोगों ने संरक्षण दे रखा था। उन्होंने कहा, ‘क्रिकेट पर सट्टेबाजी कराने वाले सिंडिकेट्स से लेकर बार और रेस्तरां से हफ्ता वसूली करने तक वजे इस संगठित आपराधिक गिरोह कोमालिक के तौर पर संचालित करता था। मुझे तो यह भी पता चला है कि सरकार ने कोविड-19 उपायों के नाम पर जो रात को 11 बजे के बाद बार बंद करने का निर्देश दिया था, उसका मकसद ही यह था कि चुनिंदा बार से हफ्ता देकर उन्हें आधी रात के बाद भी खोलने की अघोषित अनुमति दी जा सके और ऐसा हुआ भी।’

‘होटलों में सिंडीकेट्स के साथ होती थी वजे की मुलाकात’

मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया मुंबई का एक प्रमुख क्रिकेट सट्टेबाज नरेश धारे कथित तौर पर महाराष्ट्र में सक्रिय विभिन्न सट्टेबाजी सिंडिकेट्स से वजे के लिए पैसा इकट्ठा करता था। कदम ने यह भी खुलासा किया है, ‘ऐसे लग्जरी होटलों में महंगे सुइट्स बुक करके वजे विभिन्न सिंडिकेट्स के संचालकों के साथ गुप्त बैठकें करता था। मुंबई पुलिस की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट का नेतृत्व करने वाले वजे ने ऐसे अपराध सिंडिकेट के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय उन्हें शरण दी हुई थी।’

‘सट्टेबाज सिंडिकेट किंग्स से वजे के संबंध’

क्राइम ब्रांच मुंबई के एक पूर्व इंस्पेक्टर, जिनके अंडर में वजे ने काम किया, वो कहते हैं, ‘इस बदनाम पुलिस अधिकारी ने सट्टेबाजी और हवाला रैकेट के कई मामलों की जांच की थी। काफी समय बाद मुझे पता चला कि वजे के संयुक्त अरब अमीरात और अन्य मध्य-पूर्वी देशों से संचालित होने वाले सट्टेबाजी सिंडिकेट किंग्स से संबंध बना है।’

’25 मार्च तक वजे से पूछताछ करेगी NIA’

एनआईए के अधिकारी अब वजे के अन्य सहयोगियों के बारे में भी जानकारी इकट्ठा कर रहे हैं जिन्होंने उसे जिलेटिन की छड़ें खरीदने, सिम कार्ड समेत अन्य गैजेट्स प्राप्त करने और पैसे का इंतजाम करने में मदद की। सूत्र कहते हैं कि वजे अपने पूर्व सहयोगी शिंदे को एक बड़ी रकम भी दे रहा था, जो कि पुलिस मुठभेड़ मामले में उम्रकैद की सजा पा चुका था और पैरोल पर जेल से बाहर था। वह तमाम गैर कानूनी कामों में वजे की मदद कर रहा था। इतना ही नहीं कई और दागी पुलिस वाले भी वजे के संपर्क में थे। अब एनआईए 25 मार्च तक वजे से पूछताछ करेगी। साथ ही वह कोर्ट में वजे की रिमांड बढ़ाने का भी अनुरोध कर सकती है क्योंकि उसका नाम मनसुख हिरेन की हत्या में भी शामिल है।

‘अपनी पहचान छिपाने के लिए बजे ने की मनसुख की हत्या’
जिस पुलिस इंस्पेक्टर के तहत काम करके वजे ने इलेक्ट्रॉनिक सर्विलेंस सीखी और उसकी मदद से कई अपराध गिरोहों का भंडाफोड़ किया। वे कहते हैं, ‘मनसुख की बेरहमी से की गई हत्या बताती है कि वजे ने अपनी पहचान छुपाने के लिए अपने सहयोगी की ही हत्या कर दी और यही उसकी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती साबित हुई।’

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: